कश्मीरी गर्लफ्रेंड की गांड की चुदाई

हेल्लो दोस्तों, कैसे हैं आप सब ? आशा करता हूँ की अच्छे होंगे और ज़िन्दगी के मजे ले रहे होंगे | दोस्तों मेरा नाम नीरज है और मैं भोपाल का रहने वाला हूँ | मैं लगभग रोज Hindi xxx Story पर आकर सेक्सी चुदाई की कहानियां पढता हूँ | दोस्तों, मेरी एक गर्लफ्रेंड है जिस का नाम फैज़ा है | हम दोनों कॉलेज में मिले थे और प्यार हो गया | हम दोनों पिछले 3 सालों से साथ हैं और एक दुसरे को बहुत प्यार करते हैं | वो दिखने में थोड़ी भरे हुए शरीर वाली है लेकिन उसका पेट नही निकला है और उसका चेहरा बहुत प्यारा है | चलिए अब मैं कहानी पर आता हूँ |

हम दोनों ने शुरुआत के 1 साल सिर्फ किस किया और उससे ऊपर कुछ भी नही | मैंने सोचा की उसको पहले मुझ पर पूरा भरोसा हो जाये तब ही कुछ करूंगा | उसके बाद हम दोनों ने एक साथ अपनी विर्जीनिटी तोड़ी थी वो भी मेरे घर पर | उसे दर्द तो बहुत हुआ था लेकिन मैंने बहुत आराम से किया था इसीलिए उसे अच्छा भी लगा था | उसके बाद हम अक्सर चुदाई करने लगे क्यूंकि प्यार भी है, एक दुसरे के लिए सीरियस भी हैं तो फिर क्या दिक्कत होगी भला | मुझे एक फंतासी बहुत दिनों से थी लेकिन मैं उससे कह नही पा रहा था | असल में मैं जब भी सेक्सी वीडियोस देखता हूँ तो मुझे लड़कियों की गांड चुदाई की वीडियोस देखने में बहुत मजा आता है और मैन करता है की मैं भी कभी किसी लड़की की गांड चोदूं | मेरी खुद की गर्लफ्रेंड है इसीलिए किसी और के साथ ऐसा करने का तो सवाल ही नही उठता इसीलिए मुझे मन करता था की मैं अपनी गर्लफ्रेंड की सेक्सी गांड चोदूं |

मेरी गर्लफ्रेंड कश्मीर की है और दिल्ली में रहती है | मैं भी दिल्ली में रहता हूँ | दोस्तों, मैं आप लोगों को बता दूं की मेरी गर्लफ्रेंड बहुत ही ज्यादा गोरी है और उसके बूब्स एकदम दूध की तरह सफ़ेद हैं | उसके निप्पल और चूत एकदम गुलाबी है और देखकर ही प्यार आ जाता है | मैं जब भी उसकी चुदाई करता हूँ तो उसकी चूत जरुर चाटता हूँ | एक दिन की बात है, मेरी गर्लफ्रेंड मुझसे बात कर रही थी |

फैज़ा – बेबी, तुम्हारा बर्थडे आ रहा है | बताओ तुम्हे क्या दूं ?

मैं – बेबी, इस बार कुछ ऐसा दो जो मैंने बहुत दिनों से मांगने की सोची हो लेकिन मुझमे मांगने की हिम्मत नही हो |

फैज़ा – ऐसा क्या है बेबी ? बताओ तो कम से कम |

मैं – बेबी, मुझमे बताने की हिम्मत नही है | कोशिश करो खुद पता लगाने की |

फैज़ा – ठीक है बेबी | लेकिन अगर नही पता लगा पाऊं तो प्लीज बता देना |

मैं – ओके बेबी |

इतना कह कर मैंने उसे किस किया | उस दिन के बाद वो अपना जासूसी दिमाग भिड़ाने लगी | अगली बार जब मैंने उसके साथ सेक्स किया तो मैंने चुपके से उसकी गांड देख ली | ऐसी गुलाबी, गोल गोल गोरे गोरे चूतड़ों के बीच में छोटी सी, कसी से गांड का छेद.. क्या गजब नजारा था | मैंने चूत को सहलाने के बहाने उसकी गांड के छेद को हलके से टच कर दिया | मुझे मजा आ गया और ये सोच सोच के जब भी इस चोदुंगा, क्या नजारा होगा, मुझे आनंद आ गया | उसके बाद मैंने सेक्स किया | शायद उसने वो गांड को छूने वाली बात नोटिस कर ली थी | मैं बाथरूम से बाहर आया तो देखा की वो मेरे लैपटॉप की ब्राउज़िंग हिस्ट्री चेक कर रही थी | मैं समझ गया की वो अब पता लगाकर रहेगी |

एक तरफ मुझे ख़ुशी हो रही की मुझे बताना नही पडेगा तो दूसरी तरफ थोड़ी टेंशन भी थी की कहीं उसे बुरा न लग जाये | थोड़ी देर के बाद वो बोली – बेबी, मैं समझ तो गयी.. लेकिन ये नही हो पाएगा |

मैं – कोई बात नही बेबी | मैं फाॅर्स नही करूंगा | बस मेरा मन था बहुत दिनों से.. लेकिन अगर तुम्हें नही सही लग रहा तो कोई बात नही |

फैज़ा – बेबी, बहुत ज्यादा मन है क्या ?

मैं – हाँ बेबी, सच बोलूँ तो हाँ, मन तो बहुत है क्यूंकि ये पिछले 2 सालों से मेरी ख्वाहिश थी लेकिन मैं कभी कह नही पाया की कहीं आपको बुरा न लग जाये |

कामुक कहानियाँ  सेक्सी पड़ोसन की ठुकाई

फैज़ा – बेबी, आपका कितना मन है ये तो मैं समझ गयी | लेकिन दर्द बहुत ही ज्यादा होगा.. नही झेल पाउंगी मैं |

मैं – प्लीज बेबी.. बस एक बार | अगर बहुत ज्यादा दर्द हुआ तो मैं निकाल लूँगा और फिर नही कहूँगा कभी भी.. पक्का | बस एक बार न.. प्लीज |

फैज़ा – बेबी, नही करूंगी तो नही चलेगा क्या ?

मैं – बेबी, ऐसा नही है | तुम्हारी ख़ुशी मेरे लिए ज्यादा जरूरी है | लेकिन बस मन था इसीलिए बता दिया | आगे जैसा तुम्हे सही लगे |

फैज़ा – ओके बेबी, मैं कोशिश करूंगी |

ये सुनकर मैं खुश हो गया और मैंने ख़ुशी में उसे किस कर लिया | वो मेरी ख़ुशी देखकर खुश हो गयी | अब थोड़े दिन में मेरा बर्थडे का दिन भी आ गया | रात में 12 बजे वो मेरे साथ ही थी | उसने मुझे 12 बजे विश किया और किस, हग और ढेर सारे गिफ्ट्स दिए | मुझे अच्छा लगा लेकिन मन में कहीं न कहीं उसी गिफ्ट का इंतजार था | केक वगैरह खाने पीने के बाद जब हम फ्री हुए तो मैं उसको अपनी बाँहों में लेकर लेट गया | वो बोली – बेबी, मुझे पता है की तुम्हे उस गिफ्ट का अभी भी इंतजार है |

मैं – कौन सा गिफ्ट ? इतने तो दिए तुमने |

फैज़ा – अच्छा 2 मिनट रुको, मैं आती हूँ |

फिर वो बाथरूम गयी | मैं मन ही मन इंतजार करने लगा | लगभग 5 मिनट के बाद वो एक सेक्सी भी बिकनी पहन के बाथरूम से निकली | मैं उसको देखकर चौंक गया | उसके गोरे बदन पर काली बिकनी क्या मस्त लग रही थी | मैंने खुश होकर कहा – थैंक्स बेबी, थैंक्स अ लॉट | वो बोली – मेरा सब कुछ तुम्हारा है बेबी, सब कुछ | इतना कह कर वो मेरे कपडे उतारने लगी | अब मैं भी बस अंडरवियर में था | मैंने उसको पकड़ा और जोर जोर से किस करने लगा |

किस करते करते उसके बूब्स दबाने लगा और फिर गर्दन पर भी किस करने लगा | वो सिसकियाँ लेने लगी | मैंने उसकी ब्रा को सेक्सी अंदाज में खोला और उतार दिया | अब मैं उसके बूब्स को चूमने लगा | उसके बूब्स हमेशा से ज्यादा लाजवाब लग रहे थे | उसके मीठे मीठे निप्पल मुझे सच में बहुत मजा दे रहे थे | मैंने अब उसकी चूत को सहलाना शुरू कर दिया | पैंटी के ऊपर से मुझे पता चल गया की उसकी चूत गीली है | मैंने पैंटी के अन्दर हाथ डाल दिया और एक ऊँगली उसकी चूत में घुसेड दी | इधर मैं अभी भी उसके बूब्स चूस रहा था | उसकी पैंटी को उतारने का वक़्त आ गया था अब |

मैं उसकी काली पैंटी को उतार के उसकी चूत को चाटने लगा | वो मस्ती में आह्ह ह ह हह ह हहु ऊऊ ऊऊ उ ऊ उम्म्म उ म्मम्मम मम करने लगी | मैंने अब उसकी चूत में ऊँगली डाली और अन्दर बाहर करने लगा | मैंने अब एक ऊँगली उसकी गांड पर टच की | वो बोली – बेबी, रुको | फिर उसने बेड की अलमारी से लुब्रिकेंट (तेल कह सकते हैं, एक तरल पदार्थ जो चिकनाई पैसा करता है ) निकाला और मेरे हाथ में दे दिया | फिर बोली – इसे लगा कर जो करना है करो | मैं बोला – बेबी, तुमने तो सब इतंजाम पहले से कर रखा है | वो बोली – प्यार जो करती हूँ तुमसे.. तुम्हारी ख़ुशी के लिए कुछ भी |

मैं खुश हो गया | अब मैंने उसको पीछे मोड़ दिया और उसकी गांड के निचे 2 तकिये लगा दिए | अब उसकी गांड का छेद मेरे सामने था | मैंने उस पर वो लुब्रिकेंट लगाया थोडा सा और फिर अपनी एक ऊँगली घुसेड़ी | उसे दर्द तो हुआ लेकिन वो झेल ले गयी | मैं थोडा सा गैप बना कर दूसरी ऊँगली भी डाल दी और अन्दर बाहर करने लगा | उसे काफी दर्द हो रहा था लेकिन वो मुझे सच में बहुत प्यार करती थी इसीलिए झेल ले गयी | अब मैं बोला – बेबी, जरा अपनी इसको ढीली छोड़ दो और थोडा सा कण्ट्रोल करना | एक बार पूरा घुस जाने देना उसके बाद भी तुम्हे सही न लगे तो मैं निकाल लूँगा | वो मान गयी | अब मैंने लुब्रिकेंट की आधी बोतल उसकी गांड के ऊपर उड़ेल दी अपना लंड उसपर टिका दिया | मुझे पता था की उसे बहुत दर्द होने वाला है इसीलिए मैंने उसको किस करना शुरू किया पीठ पर और लंड पर हलके से धक्का दिया | मेरा लंड पूरा खडा होने के बावजूद थोडा सा भी अन्दर नही घुसा | मैं समझ गया की अब काम ऐसे नही बनेगा | मैंने फिर से उसकी गांड में ऊँगली डाली और पूरी 2 उँगलियाँ अन्दर तक घुसेड दी | वो चीखने लगी | मैंने उसकी पीठ पर किस करना जारी रखा और उँगलियों को धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा | वो जोर जोर से आह्ह्ह ह ह्ह्ह्हह ह्ह्ह ह ह्हूऊऊउ ऊ उ उ ऊ ऊऊ इ ई ईई इ इ ई ईई इ ई इ ईई इ इ ई ई ई ई ईई ई इ इ करने लगी | मैंने पोर्न मूवीज में देखा था की गांड को खोलने के लिए अगर चूत में भी ऊँगली की जाए तो लड़की को जोश आ जाता है वो वो दर्द झेल जाती है | मैंने वैसे ही किया | मैंने अब 2 उँगलियाँ उसकी गांड में और 2 उँगलियाँ उसकी चूत में घुसेड दी और अन्दर बाहर करने लगा |

कामुक कहानियाँ  कुंवारी लड़की की गुलाबी चुत

थोड़े इंतजार के बाद आखिर मुझे लगा की हाँ, अब उसकी गांड थोडा खुल गयी है | मैंने अब फिर से लंड टिकाया और जोर का धक्का दिया | इस बार मेरे लंड का टोपा उसकी गांड के अन्दर घुस चूका था | वो दर्द झेल नही पायी और जोर जोर से रोने लगी | मैंने उसको कण्ट्रोल करने की कोशिश की लेकिन वो रोये ही जा रही थी | मैंने पीछे देखा तो उसकी गांड से खून आ रहा था | मैं समझ गया की ये क्यूँ रो रही है इतना | मैंने लंड उसकी गांड से निकाल लिया और बोला – बेबी, रो मत प्लीज | कुछ भी नही कर रहा मैं, पक्का | इतना कह कर मैंने उसको सामने की तरफ मोड़ कर अपनी बाँहों में ले लिया और किस करने लगा | वो अब भी रो रही थी | मैंने उसके आंसूं पोछे और बोला – प्लीज बेबी, रो मत न | नही कर रहा कुछ भी | काफी देर बाद उसने रोना बंद किया | कुछ भी हो, मुझे उसकी ख़ुशी अपनी फंतासी से ज्यादा प्यारी थी इसीलिए मैंने अपना लंड को शांत किया और उसको अपनी बाँहों में लेकर नंगे ही सो गया |

सुबह जल्दी ही मेरी नींद खुल गयी | मैंने उसको माथे पर किस किया तो वो भी उठ गयी और मुझे हग करके बोली – आई लव यू बेबी | मैंने आई लव यू टू बोला | फिर हम दोनों ने किस किया | वो अचानक से बोली – बेबी, चलो करते हैं | मैंने बोला – क्या ? वो बोली – वही जो रात में अधुरा रह गया था | मैं बोला – नही बेबी, तुम्हे इतना दर्द हुआ रात में.. अब मैं नही करूंगा | वो बोली – इट्स ओके बेबी, तुम मुझे इतना प्यार करते हो की मेरी ख़ुशी के लिए 2 साल पुरानी फंतासी को छोड़ दिया | क्या मैं तुम्हारी ख़ुशी के लिए थोडा सा दर्द भी नही झेल सकती ? मैं बोला – अरे ऐसा नही है बेबी, लेकिन आपको दर्द देना मुझे अच्छा नही लगता | वो बोली – अच्छा अगर मेरी ख़ुशी भी इसी में हो तब भी नही करोगे ? मैं बोला – बेबी, तुम्हारी ख़ुशी के लिए तो मैं कुछ भी कर सकता हूँ | वो बोली – तो बस, चलो करते हैं |

फिर हम दोनों ने किस करना शुरू कर दिया और बूब्स वगैरह दबाते हुए मैंने फिर से उसकी गांड में ऊँगली करना शुरू कर दिया | अब वो रात के मुकाबले कम सिसकियाँ ले रही थी | मुझे महसुस हुआ की शायद उसे कम दर्द हो रहा है | मैंने अब लंड पर वो लुब्रिकेंट लगाया और बाकी बचा सारा लुब्रिकेंट उसकी गांड पर लगा दिया | अब उसकी गांड पर अपने लंड को टिका कर मैंने एक धीरे का धक्का दिया | इस बार भी मेरे लंड का टोपा ही घुसा बस लेकिन उतना दर्द नही हुआ उसे जितना रात में हुआ था | शायद ये मेरे प्यार का असर था | अब मैंने उसकी गर्दन पर किस करते हुए दूसरा धक्का दिया | इस बार आधा लंड उसकी गांड में घुस चूका था | वो दर्द से कराहने लगी | मैंने बोला – बेबी, निकाल लूं क्या ? वो बोली – नही बेबी, मैं ठीक हूँ | थोड़ी देर मैंने ऐसे ही रखा और फिर एक और जोर का धक्का दिया और इस बार पूरा लंड उसकी गांड में घुसेड दिया | वो रोने लग पड़ी | मैंने लंड को निकालना शुरू किया तो उसने मेरा हाथ पकड़ कर रोते हुआ बोला – बेबी, निकालो मत, थोडा दर्द कुछ भी नही है |

कामुक कहानियाँ  विनीता की चुदाई

इतना दर्द झेलने के बावजूद भी उसका ये कहना सुन कर मेरी आँखों में ख़ुशी के आंसूं आ गये | मैंने अपना लंड उसकी गांड में ही रखते हुआ कहा – बेबी, शादी करोगी मुझसे ? वो रोते हुए भी खुश हो गयी और बड़ी ख़ुशी से बोली – हाँ, जरुर बेबी | तुम्हे कभी खोना नही चाहती मैं | मैं बोला – बेबी, हम जल्दी ही शादी कर रहे हैं | वो खुश हो गयी | अब मैंने उसकी गर्दन पर किस करना शुरू किया और थोड़ी देर बाद अपने लंड को उसकी गांड में धीरे धीरे अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया | उसे दर्द तो हो रहा था लेकिन मेरे इस शादी वाली बात से जो ख़ुशी उसे मिली थी उसके सामने वो दर्द शायद कम था | वो अपनी गांड को आराम से मुझसे चुदवा रही थी |

मैंने अब धक्के थोड़े तेज किये तो उसकी सिसकियाँ भी तेज हो गयीं और वो जोर जोर से आह्ह ह ह्ह्ह ह हह ह हह हह हह हह ह ह्ह्ह्हह ह हह हह ऊ ऊ उ ऊ ऊ ऊऊ उ ऊ ऊऊ उ उई ईई इ ईई इ ई इ ईई ईईई ईई ई ईईइ इओह हह ह ह करने लगी | मैंने थोड़ी देर बाद उसकी गांड से लंड निकाला और खुद लेटकर उसको मेरे ऊपर आने को कहा | वो मान गयी | अब वो मेरे ऊपर बैठ कर मेरे लंड को अपनी गांड में लेने लगी | लंड आसानी से जा नही रहा था तो मैंने अपने लंड को पकड़ा और उसकी गांड में ऊँगली करके फिर उस पर टिकाया और धक्के से अन्दर कर दिया | अब मेरा लंड उसकी गांड में पूरा घुस चूका था | अब वो मेरे लंड के ऊपर धीरे धीरे उछलने लगी थी | मुझे बहुत मजा आ रहा था | मैंने उसके बूब्स दबाने लगा और बीच बीच में उसको किस भी करने लगा |

करीब 15 मिनट तक ऐसे ही चुदाई के बाद मैंने उसकी कमर को पकड़ा और निचे से धक्के लगाने शुरू कर दिए | वो जोर जोर से आह हह ह हह हह हह ह हह हु ऊ ऊऊ ऊ ऊ उ ऊऊ उ उई इ ईई ई ई ईई इ ई इ ई इ ई ई इ ईई ई इ इ ओ हह ह्ह्ह हह ह हह ह हह ह्ह्ह ह हह करने लगी | लगभग 10 मिनट की और चुदाई के बाद मैं उसकी गांड में ही झड गया | हम दोनों ही थक चुके थे इसीलिए मैंने अब मुठ साफ़ किया और उसको बाँहों में लेकर सो गया | आज हम पति पत्नी हैं और घर वालों को बिना बताये शादी कर के दुसरे शहर में रहते हैं | चूत चुदाई के साथ साथ कभी कभी गांड चुदाई भी क्र लेते हैं हम लोग और अब उसे वो भी एन्जॉय करती है |

आशा है की आप लोगों को ये कहानी पसंद आई होगी | कहानी पढने के लिए धन्यवाद् दोस्तों |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: