प्रिया का वेक्स रियांश का सेक्स

हेलो दोस्तों, भाभियों, भाभियों की बहनो, और मेरे यारों !
नमस्ते, आदाब, खुदा हाफ़िज़, मैं आप का प्यारा रियांश सिंह एक बार फिर से आप के लिए एक नयी कहानी लेकर आया है ! मेरे बारे में तो आप जानते ही है ! मैं रियांश सिंह ग्वालियर का रहने वाला हूँ ! मेरी उम्र 23 साल है !मैं आगरा मैं जॉब करता हूँ ! तो मैं आप का ज्यादा समय ना ख़राब करते हुए सीधा स्टोरी पे आता हूँ ! मैं आगरा मैं जिस घर में रहता हूँ वहां और भी काफी किरायेदार रहते है ! मेरे सामने वाले फ्लैट में एक प्रिया नाम की लड़की रहती है ! प्रिया काफी सीधी लड़की है वो ना ज्यादा किसी से बात करती सिर्फ पढ़ती रहती थी ! वो शिवपुरी की रहने वाली थी आगरा से अपना कॉलेज पूरा कर रही थी ! मेरी और उसकी थोड़ी बहुत बात-चीत हों जाती थी ! प्रिया की उम्र 22 साल है ! मैंने कभी सोचा नहीं था की मैं उसके साथ सेक्स करूँगा क्योंकि कभी मैंने उसे उस नजर से देखा ही नहीं ! वो बहुत सीधी साधी हमेशा पढ़ते रहना ! उसके खुद के सपने थे उसके आगे उसे कुछ दिखाई नहीं देता था ! तो जिस मल्टी में हम रहते थे उसके मालिक के लड़के की शादी थी ! शादी के कारण काफी रौनक थी घर में ! पूरा घर बहुत शानदार तरीके से सजा हुआ था ! उनके यहाँ काफी मेहमान आये थे तो जितने भी किरायेदार थे उन्होंने अपना सामान स्टोर में लॉक करके रख दिया था ! सिर्फ प्रिया के रूम के अलावा क्योंकि वो पढ़ने वाली थी तो अंकल ने उसे परेशान नहीं किया ! उनके रिश्तेदार काफी थे ! मेरे रूम में उनके सोने की व्यवस्था की गई थी ! मेरे को भी उन्ही रिश्तेदारो के साथ सोना था ! काफी रात हों गई थी ! लेकिन इन रिश्तेदारो की बातें ही ख़तम नहीं हों रही थी ! और मुझे काफी नींद आ रही थी ! मेरे कही बार टोकने पर भी वो शांत नहीं हों रहे थे ! तो मैं उठकर बाहर आ गया और सीडियो पे बैठ गया ! और ऐसे ही बैठे बैठे फ़ोन चला रहा था ! तो देखा प्रिया का रूम का दरवाजा खुला है ! वो घूम घूम के पढ़ रही थी ! मैं सीडियो से उठा और उसके दरवाजे पे नॉक किया ! वो आयी बोली क्या हुआ रियांश सोये नहीं तुम? मैंने कहाँ यार इनके रिश्तेदार नहीं लाउड स्पीकर है शांत ही नहीं हों रहे पता नहीं पूरी दुनिया भर की बातें आज ही करेंगे ! इसलिए बाहर आ गया था ! तो प्रिया कहती है तुम यहाँ आराम करलो ! मैं वैसे भी सुबह सोती हूँ ! मैंने कहाँ सच में तुम्हे कोई परेशानी तो नहीं !तो वो कहती है नहीं मुझे कैसी परेशानी तुम बेझिझक आराम करो ! अगर मुझे नींद आएगी तो मैं सोफे पे सो जाउंगी ! मैंने कहाँ थैंक्स और मैं उसके रूम में गया और उसके बेड पे लेट गया ! अब मुझे नींद नहीं आ रहज थी ! ना जाने कहाँ गायब हों गई थी ! मैं यही सोचे जा रहा था की कितना बड़ा दिल है प्रिया का बहुत प्यारी है ! इतने मैं प्रिया बोलती है क्यों क्या हुआ सो जाओ ! मैंने कहाँ नींद पता नहीं कहाँ गायब है ! मैंने कहाँ थोड़ी देर से पढ़ लेना ! आओ बैठ जाओ अपना ही घर समझो ! वो ये सुनके हसने लगी ! मैंने कहाँ और बताओ काल शादी में जाना है ! क्या प्लान है ! वो कहती है मैं नहीं जा रही !मैंने कहाँ क्यों?? तो वो कहती है अकेले क्या करुँगी, और समझ भी नहीं आ रहा क्या पहनू ! मैंने कहाँ तुम कुछ भी पहन लो प्यारी लगोगी ! वो कहती है कुछ भी मुझे पता है मैं क्या हूँ और कैसी लगूंगी ! मैंने कहाँ वैसे क्या सोचा है क्या पहनओगे ! प्रिया — मैंने सोचा है लेहंगा पहन लू ! खैर जाना नहीं तो सोचना कैसा ! मैंने कहाँ तुम नहीं जाओगी तो मैं भी नहीं जाऊंगा ! वो कहती है ये क्या बात हुई ! मैंने कहाँ यही बात है फालतू में परेशान होंगी खाना वगेरा बनाओगे अंकल आंटी भी नाराज हों जाएंगे अगर नहीं जाओगी तो! टेंशन ना लो मैं तुम्हारे साथ रहूँगा वहां ! तोह कहती है फिर तुम ही बताओ क्या पहनू ! मैंने सोचा और कहाँ जो पहनना है पहन लो वन पीस पहनती तो अच्छा था ! तो वो कहती है मेरे पास है मैंने कॉलेज पार्टी में पहना था ! चलो तुम कह रहे तो काल वही पहन लुंगी ! मैंने कहाँ फुल बॉडी वेकस होनी चाहिए तभी अच्छी लगेगी ! वो कहती है यार वो मैंने कभी नहीं कराया मेरी सारी दोस्तों करती है कहती है काफी दर्द होता है ! मैंने कहाँ नहीं होता तो वो कहती है बोलतो ऐसे रहे जैसे किया हों ! मैंने कहाँ किया ही है तभी बोल रहा तुम कहो तो तुम्हारा कर दूंगा ! वो कहती है ना मैं करवा लुंगी कल ! फिर ऐसे ही बातें करते करते कब नींद लग गई पता ही नहीं चला ! अगले दिन जब में उठा तो पता चला वो अपनी कोचिंग गई थी ! मैं उठा अपने रूम में गया फ्रेश वगेरा होकर नीचे खाने के लिए चला गया ! क्योंकि शादी का घर था तो सबका खाना एक ही जगह था ! फिर खाना कहाँ कर अपने रूम में आ गया! फिर देखा मेरे दरवाजे पे किसी ने नॉक किया है ! मैंने देखा तो वो प्रिया थी मैंने कहाँ हेलो और थोड़ी बातचीत हुयी और उसको उसके रूम की के दे दी ! फिर कुछ देर बाद प्रिया मुझे बुलाने आयी की मेरे रूम में आना जरा रियांश ! मैं चला गया फिर वो कहती है आओ बैठो ! मैं बैठा ही था मैंने पूछा क्या हुआ??? वो कहती है मैंने फुल बॉडी वेक्स करा ली है ! मैंने कहाँ अच्छी बात है तो रात में चल रही हों ना ! कहती है हाँ तभी तो कराया ! कहती है मैं वन पीस पहन कर आती हों बताना कैसा लग रहा ! मैं बैठा रहा काफी बेताब हों रहा था वो थोड़ी देर में पहन कर आयी और कहती हो देखो रियांश…. मैं देख के शॉक्ड हों गया ! मैं उसे ही देख रहा था ! उसका लाल रंग का वन पीस उसपे बहुत ही प्यारा लग रहा था ! उसकी जाँघे एक दम चिकनी दूध सी थोड़ा सा रूखा पन ! उसके थोड़ा सा क्लीवेज से उसके बूब्स का हल्का सा दिखना ! उसकी गर्दन पे बायीं तरफ का तिल ! वो अलग ही क़ातिल लग रही थी ! मैं कुछ बोल ही नहीं पा रहा था ! उसने मेरी चुप्पी तोड़ते हुए कहा इतनी बेकार भी नहीं लग रही ! मैंने कहाँ बेकार नहीं केहर ढा रही हों ! अगर बॉडी पे आयल की मालिश होती तो कतल हों जाते यहाँ ! वो ये सुनके जोर जोर से हसने लगी कहती है अब मालिश कौन करेगा ! अब मैं मसाज पार्लर नहीं जा रही ! मैंने कहा मैं कर सकता हूँ अगर तुम्हे कोई तकलीफ ना हों तो ! वो कहती है ना ना रहने दो ! मैंने कहाँ सच में कर सकता हूँ ! कहती है फिर ठीक है मैं नीचे से खाना खाकर आती हूँ ! फिर कर देना मैंने कहा ठीक है जल्दी आओ ! फिर वो खाना खाने चली गई इतने मैं मैंने नारियल के तेल को हल्का सा गरम कर लिया ! मैं बैठा बैठा उसका इंतज़ार कर ही रहा था की वो आ गई ! कहती है चलो कर दो ! फिर मैंने ज़मीन पर चटाई बिछाई ! इतने में वो शॉर्ट्स और तो शर्ट पहन कर आ गई ! मैंने कहाँ पूरी बॉडी पे ऑइलिंग करनी है शॉर्ट्स में कैसे करूँगा ! कहती है इतना इतना कर देना ! मैंने कहाँ भरोसा नहीं है तो रहने दो ! मैं चला जाता हूँ ! वो कहती है भरोसे वाली बात नहीं ! मुझे बहुत शर्म आ रही ऐसे मैं किसी लड़के के सामने कभी बिना कपड़ो के नहीं रही ! मैं समझ गया लड़की ने आज तक कुछ नहीं किया ! मैंने कहाँ भरोसा रखो ! मैं कुछ गलत नहीं करूँगा ! इतने सारे लोग है घर में चिल करो ! वो कहती है ठीक है !फिर उसने रूम की लाइट डिम करदी और ब्रा पेंटी के ऊपर टॉवल लपेट कर आ गई और चटाई पे उलटी लेट गई ! मैं देख रहा था वो बहुत ही सेक्सी दिख रही ! मैंने तेल उसके पेरो पे लगाया और मालिश करने लगा ! मैंने धीरे धीरे अपने हाथों को उसके पैर से उसकी जांघ पर ले जाने लगा ! उसे बहुत अच्छा लग रहा था कहती है काफी आराम मिल रहा ! फिर मैंने कहाँ तुम्हे टॉवल हटाना पड़ेगा ! प्लीज हटाओ तभी हों पाएगी अच्छे से ! तो कहती है हटा लो !मैंने टॉवल खोला तोह देखता ही रह गया ! काली कलर की ब्रा एयर पैंटी और उसका गोरा सा बदन अलग ही लग रहा था ! मैंने उसे देखा तो मेरा लंड सलामी मरने लगा ! मैंने फिर उसकी जांघो पे तेल डाला और अपने हाथ से उसे रगड़ने लगा ! धीरे धीरे इसी बहाने अपना हाथ उसकी चूत को 2-4 बार छू गया जब भी मेरा हाथ उसके चूत को छूता तो वो एक दम से लम्बी सांस लेने लगती ! फिर मैंने उसकी पीट पे तेल डाला और मालिश करने लगा ! और बार बार में उसे हाथों से मालिश करने लगा ! मैंने कहाँ बड़ा का हुक खोल दू दिक्कत ही रही करने में उसने कहाँ ठीक है ! फिर मैंने बड़ा का हुक खोलके अलग किया ! और अपने हाथों से दम से मालिश करने लगा मैं इतनी ताकत से उसकी पीट दबा रहा था ! की उसके बूब्स आगे से अपने आप दबा रहे थे मैं जब भी पीट पर थोड़ा दवाब बनता तो उसकी आह निकल जाती ! मैं समझ गया था इसे मजा आ रहा ! फिर मैं अपने हाथों को उसकी गर्दन तक ले गया और मालिश करने लगा ! फिर मैंने कहाँ सीधी हों जाओ ! वो कहती है ना आगे मैं कर लुंगी मैंने कहाँ अरे ही जाई शर्माओ मत फिर वो सीधी हों गई ! मैंने कहाँ ब्रा हटानी पड़ेगी तो उसने हटा दी और आँखें बंद कर ली ! उसके बूब्स के नीचे एक प्यारा सा तिल था मेरा तिल देख कर हमेशा ही दिमाग़ ख़राब होता है ! फिर मैंने तेल उसके पूरे शरीर पे लगाया और उसके पेट पे मालिश करने लगा धीरे धीरे अपने हाथ को उसके बूब्स की साइड बढ़ाया जैसे ही मेरे दोनों हाथ उसके दोनों बूब्स पर गए ! वो चिहुँक उठी कहती है आराम से करो ! मैंने कहाँ ओके ! फिर मैंने आराम से अपनी उँगलियाँ उसके निप्पल पे चलाने लगा वो काफी कड़क हों गए थे और उधर हमार छोटा उस्ताद भी ! वो बहुत गरम गरम सांसें लेने लगी थी ! फिर मैंने उसके कानो पे अपनी उँगलियाँ फिराई तो वो गरम गरम सिसकारियां लेने लगी ! फिर मैं ऐसे ही करता रहा और कानो से उसकी गर्दन पे आया ! फिर उसके बूब्स पर आया ! फिर उसके पेट पे उसकी नाभि पे ऊँगली फिरने लगा और उसकी नाभि में दो बूँद तेल की जैसे ही डाली वो चिहुँक उठी और गरम गरम सांसें लेनी लगी ! समझ आ रहा था इसे बहुत मज़ा आ रहा है ! वो अपने दोनों हाथों की उँगलियाँ ज़मीन पे गाड़ रही थी ! फिर मैंने कहाँ अपने हाथ सीधे करले ऊपर की साइड तोह उसने किये फिर मैंने अपने हाथों में तेल भरा और उसकी काँखो में अपने हाथों से मलने लगा वो बाह्यत तेज़ तेज़ गरम गरम सांसें लेना लगी बहुत ही ज्यादा तेज़ तेज़ उसकी सांसें मुझे सुनाई दे रही थी और मेरा लंड फटा जा रहा था वो एक दम से उठी और मेरे होंठों पे अपने होंठ रख दिए जैसे भूकी शेरनी शिकार कर रही हों ! वो बहुत तेज़ मेरी होंठों को चूस रही थी और एक दम से उसने मेरा होंठ काट लिया मैंने कहाँ आऊच तब भी वो नहीं रुकी वो मेरे चेहरे को चाटने लगी ! मैं उसके ऊपर बैठा था ! जब वो मुझे चूम रही थी तब मेरा लंड उसके पेट को छू रहा था ! फिर मैं अपने होंठों को उसके कानो पे ले गया और चूसने लगा वो और तेज़ तेज़ गरम सांसें लेने लगी ! फिर मैं धीरे धीरे उसकी गर्दन पे आया ! मेरा एक हाथ उसकी चूत पे था और उसे रगड़े जा रहा था ! और दूसरे हाथ से उसको अपनी तरफ खींचे हुआ था !और उसे चूमें जा रहा था वो लम्बी लम्बी सांसें ले रही थिबौर अपने बूब्स को मेरे छाती पे दबाये जा रही थी ! और अपने सीधे हाथ से मेरा लंड मसल रही थी ! फिर मैंने कहाँ तुम लेट जाओ फिर वो लेट गई ! मैंने उसके बूब्स चूसें ! कभी दाए वाला कभी बाए वाला और वो बहुत तेज़ तेज़ गरम सांसें ले रही थी ! बोलती है प्लीज प्लीज मुझसे रुका नहीं जाता ! मैंने कहाँ लंड चूसोगी मेरा तो कहती है ना ! मैंने कहाँ तभी मैं चूत चाटूँगा ! फिर वो मान गई वो अलग ही नशे में थी जो कहो वो कर रही थी ! मैंने उसकी चड्डी उतारी और 69 की पोजीशन में आ गया ! मैंने अपना लंड उसके मुँह मैं फसा दिया और उसकी चूत में तेल भर दिया एयर उसे चाटने लगा और धीरे धीरे उसे रगड़ने लगा! और दूसरी साइड वो मेरे लंड को पागलों की तरह चूस रही थी ऐसा लग रहा था लंड ना जाने कौनसे गड्डे में फस गया ! वो मेरे टट्टे ऐसे चूस रही थी जैसे लॉलीपॉप ! मैंने उसकी चूत का दाना तेज़ रगड़ने लगा तो वो लंड पे काट दी ! मैंने कहाँ आरंम से वो कहती है जल्दी करो ! फिर मैं सीधा हुआ और अपना लंड उसकी चूत पे सेट किया ! और जैसे ही धक्का मारा वो फिसल गया ! फिर दोबारा धक्का मारा फिर फिसल गया ! मैंने टॉवल उठाया और उस जगह को रगड़ के साफ किया ! फिर मैंने लंड रखा और प्यार से धक्का मारा तो थोड़ा सा लंड का टोपा घुस गया उसे दर्द हों रहा था लेकिन वो कह रही जल्दी करो और मेरे होंठों को चूसने लगी ! मैंने एक और धक्का मारा वो थोड़ी सी उचकी और अपने होंठ मेरे होंठ से हटाया मैंने देखा उसकी आँखें लाल थी ! मैं थोड़ा रुका और उसके कान को चूसने लगा फिर उसके होंठों को चूमने लगा और धीरे धीरे वो नार्मल हुयी ! मैंने उसके हाथों को ऊपर किया और उसकी कांख चाटने लगा वो बहुत तेज़ गरम गरम सांसें लेने लगी और बोली जल्दी करो ! फिर मैं उसके बूब्स ओर आये और ताकत से दबाने लगा और नीचे लंड की स्पीड बढ़ गई थी ! मैं उसे तेज़ी से चोदे जा रहा था ! मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी एयर उसके बूब्स को ताकत से दबाने लगा थोड़ी देर बाद वो झाड गई ! फिर मैंने अपना लंड निकल रहा उसके मुँह में रख दिया वो तेज़ तेज़ चूसने लगी और मैं भी झड़ गया ! और वो मेरा रस पी गई ! फिर मैं उसके पास लेट गया ! और पता ही नहीं चला हमारी कब नींद लग गई ! फिर जब मैं उठा तो देखा 6 बज गए थे वो अभी भी लेती थी मैंने देखा उसके बूब्स लाल हुए पड़े है ! मैंने उसे उठाया और कहाँ जल्दी नहा के तैयार हों जाओ काफी टाइम हों गया ! मैंने कहाँ मैं अपने रूम में जा रहा हूँ ! वो कहती है रुको एक मिनट ! फिर वो नंगी ही मेरे पास आयी कामदेवी लग रही थी ! और मेरे पास आकर मेरे को किश किया और कहती है ये मेरी जिंदगी का सबसे ख़ास दिन था ! फिर मैं चला गया और उस दिन हम शादी मैं भी गए और खूब मजे किये ! तो दोस्तों और मेरी सहेलियों, भाभियों और ऑन्टीयों ये थी मेरी कहानी कैसी लगी ! मुझे मेल करके जरूर बताना ! अगर आप मुझसे कुछ शेयर करना चाहते है तो जरूर करें !आप के लिए मेरा प्यार हमेशा रहेगा ! बाय बाय ध्यान रखो मजे करो ! आप का प्यारा और सबका प्यारा रियांश सिंह आप से विदा लेता है !

कामुक कहानियाँ  दिल्ली वाली देसी आंटी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: